समानता का नारा कहीं पुरूष वर्ग का षड्यंत्र तो नहीं

षड्यंत्र
शालू बड़े लाड़-प्यार में पली थी। उसके पिताजी लड़के और लड़कियों में कोई अंतर नहीं समझते थे। अत: सभी भाई-बहनों के खान-पान, पहनने-ओढ़ने व शिक्षा-दीक्षा में कोई अंतर नहीं किया था। शालू के पिताजी महिला-पुरूष समानता के पक्षधर जो थे। शालू भी भाइयों के साथ पढ़ने-लिखने व खेलने-कूदने में प्रसन्नता का अनुभव करती।
लेकिन उसे उस समय बड़ा बुरा लगता, जब शालू की माँ, शालू को रसोई के काम सिखाती व बात-बात पर डाँट देती। शालू को ओर भी बुरा लगता, जब शालू की माँ कहती,“ससुराल में जाकर मेरी नाक कटायेगी, तेरी सास कहा करेगी कि तेरी माँ ने तुझे क्या सिखाया है?
शालू जब कालेज में पढ़ने जाने लगी, उसे स्त्री-पुरूष समानता पर चर्चा सुनने को मिलतीं। यही नहीं, अध्ययन में `नारी अधिकार´ उसका प्रिय विषय था। एक बार विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित सेमीनार में `महिला-पुरूष समानता´ पर भाषण दिया तो विश्वविद्यालय की ओर से शालू को सर्वश्रेष्ठ वक्ता के रूप में पुरूस्कृत किया गया। शालू ने स्नातकोत्तर में प्रथम श्रेणी प्राप्त की, जबकि उसके भाई द्वितीय श्रेणी ही ला सके थे। शालू के पिता को अपनी बेटी पर गर्व था।
पढ़ाई पूरी हो जाने के बाद शालू की शालू एक श्रेष्ठ परिवार में कर दी गई। शालू के परिवार में सभी पढ़े-लिखे व समझदार थे। शालू के ससुर ने साफ कह दिया था कि हम महिला-पुरूष में कोई भेद नहीं करते, यदि शालू चाहे तो नौकरी भी कर सकती है। शालू को गर्व था, ऐसे परिवार की बहू होने पर।
शालू ने प्रसन्नता के साथ नौकरी ज्वाइन कर ली। शालू व उसके पति, दोनों नौकरी पर जाते। शालू सुबह चाय बनाती, सास-ससुर की सेवा करती, ऑफिस की तैयारी करती, अपना व अपने पति का लंच बॉक्स लगाती व दोनों अपने-अपने काम पर चले जाते। कुछ समय तो सब कुछ ठीक-ठाक चलता रहा, किंतु जब शालू गर्भवती हुई, उसका ऑफिस जाने का मन न करता। प्रसव के बाद तो उसकी परेशानी और भी बढ़ गईं। वह घर व बच्चे को सभॉले या ऑफिस? उसे मजबूरी में सभी कार्य करने पड़ते। बच्चे को आया के भरोसे छोड़ना वह बिल्कुल पसन्द न करती। उसके पति सहयोगी प्रकृति के आदमी थे, पूरा सहयोग करते किन्तु उसके कामों को तो उसे ही करना होगा। आज शालू को लगता, स्त्री-पुरूष दोनों समान नहीं हैं, इन्हें प्रकृति ने ही भिन्न-भिन्न बनाया है। ये दोनों एक-दूसरे के सहयोगी व पूरक हैं और इसे स्वीकार करके ही प्रसन्न रह सकते हैं।
अगले ही क्षण शालू के मस्तिष्क में प्रश्न उठता, समानता का नारा कहीं पुरुष वर्ग का शड्यंत्र तो नहीं ताकि वे अपने उत्तरदायित्वों को भी महिलाओं पर डाल सके?
www.rashtrapremi.com

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: